18 ईवीएम का बदला गया सॉफ्टवेयर, प्रोग्रामिंग और कोड, चुनाव आयोग जांच नहीं करवा रही- अरविन्द केजरीवाल



दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने एकबार फिर चुनाव आयोग पर गड़बड़ी करने का आरोप लगाया| उन्होंने आरोप लगाया कि राजस्थान के धौलपुर में 200 में से 18 EVM में गड़बड़ी निकली| परंतु चुनाव आयोग इसकी जांच करवाने को तैयार नहीं| ज्ञात हो कि इससे पहले अरविन्द केजरीवाल ने मध्यप्रदेश के भिंड में EVM की गड़बड़ी को लेकर चुनाव आयोग पर निशाना साधा था|



केजरीवाल ने कहा कोई भी बटन दबाओ लेकिन वोट बीजेपी को ही जा रहा था. इससे शक हो रहा है कि कहीं इन सबमें चुनाव आयोग की मिलीभगत तो नहीं. केजरीवाल बोले कि भिंड मामले के वक्त चुनाव आयोग ने क्लिन चिट दे दी थी, जबकि गड़बड़ी पत्रकारों के सामने पकड़ी गई थी. इन EVM में गड़बड़ी का मतलब 10 फीसदी मतदान में गड़बड़ हुई है.  मैं भी इंजीनियर हूं. आईआईटी से पढ़ा हूं. यह मशीन की गड़बड़ी नहीं छेड़छाड़ है. ईवीएम का सॉफ्टवेयर, प्रोगामिंग, और कोड बदला गया है. यह बहुत शातिर तरीके से किया जा रहा है.


सिर्फ ईवीएम बदलने से समाधान नहीं निकलेगा

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सिर्फ ईवीएम बदलने से समाधान नहीं निकलने वाला. EVM में लगाये गए सॉफ्टवेयर से ऐसी गड़बड़ी की जा रही है. बटन दबाने पर लाइट तो जलती है, लेकिन पर्ची बीजेपी की निकल रही है. उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग धृतराष्ट्र बन गया है जो किसी भी तरह बीजेपी को सत्ता में पहुंचाना चाहता है.


दिल्ली नगर निगम चुनाव में मशीन राजस्थान से लाया जा रहा है


मुख्यमंत्री केजरीवाल ने चुनाव आयोग पर आरोप लगाया कि उनके द्वारा जानबुूूझकर होने वाली एमसीडी चुनावों में EVM राजस्थान से लाया जा रहा है, जबकि दिल्ली में लगभग 15 हजार EVM उपलब्ध हैं. 2006 से 2013 तक की EVM का इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है, चुनाव आयोग बहाने बनाकर 2006 से पहले जोकि फर्स्ट जनरेशन की मशीन है,उसका इस्तेमाल कर रही है, जबकि 2006 से 2013 की मशीनें सेकंड जनरेशन की एडवांस्ड मशीन है| केजरीवाल ने कहा कि बीजेपी की जीत घोषित कर दो लोग सड़कों पर आ जायेंगे आन्दोलन करने के लिए|

Share Your Views Below In Comment Box


Powered by Blogger.