अगस्त में बच्चे मरते ही हैं!"-यूपी के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह का शर्मनाक बयान


गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में इंसेफलाइटिस के मरीजों के लिए बने सौ बेड के आईसीयू सहित दूसरे आईसीयू व वार्डों में ऑक्सीजन खत्म होने से 60 बच्चों की मौत हो गई है. एक रिपोर्ट के मुताबिक मेडिकल कॉलेज के नेहरू अस्‍पताल में सप्‍लाई करने वाली फर्म का 69 लाख रुपये का भुगतान बकाया था जिसके चलते गुरुवार शाम को फर्म ने अस्‍पताल में लिक्विड ऑक्‍सीजन की आपूर्ति ठप कर दी थी। जिसके बाद से मेडिकल कालेज में जम्‍बो सिलेंडरों से गैस की आपूर्ति की जा रही है। हालांकि मेडिकल कालेज प्रशासन ऑक्सीजन की कमी से मौत से इंकार कर रहा है।


लेकिन इसी बीच उत्तर प्रदेश के स्वास्थ मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने शर्मनाक बयान दिया है, उन्होंने कहाँ है कि अगस्त के माह में बच्चे मरते रहते है। इससे पहले उत्तरप्रदेश सरकार के आधिकारिक ट्विटर हैंडल ने 30 बच्चों की मौत से इनकार किया था। और इसे महज़ एक अफवाह बताया था।

जनता में गुस्सा  
उत्तरप्रदेश सहित पूरे देश मे सरकार के नाकारापन रवैय्ये से लोग गुस्से में है। लोगो ने सरकार पर जम कर निशाना साधा। एक्टर एजाज खान ने वीडियो संदेश में मुख्यमंत्री योगी के साथ-साथ प्रधानमंत्री मोदी पर भी कड़ा प्रहार किया। मंत्री के बयान पर उन्होने कहा की जिसकी अपनी संतान न हो वो दूसरों की संतान खोने का दर्द क्या समझेगा।  

 जरूर पढ़ें: हादसा नहीं हत्या है गोरखपुर अस्पतालों में बच्चों की मौत ,नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने कहा 


प्रधानमंत्री की चुप्पी 
प्रधानमंत्री ने इस घटना पर चुप्पी साध रखी है। विपक्ष ने हमला करते हुए कहा जो प्रधानमंत्री दूसरे देश की छोटी घटनाओं पर ट्वीट करते है वो अपने देश मे हुए इतने बड़े घटनाएं के बाद भी चुप क्यों है। सोशल मीडिया पर सक्रिय रहने वाले प्रधानमंत्री इस मुद्दे पर चुप है वो भी गंभीर सवाल पैदा करते है। क्योंकि केंद्र और राज्य दोनों जगह भाजपा की सरकार है और इतनी बड़ी लापरवाही पर सरकार की बहुत किड़कीड़ी हुई है। 

 जरूर पढ़ें : योगी सरकार के पहले दो महीनों में बलात्कार की 803, अपहरण की 2682 और डकैती की 60 वारदातें हुईं 

सप्लाई करने वाली कंपनी ने पहले ही किया था आगाह

























जो कम्पनी बीआरडी कॉलेज को ऑक्सिजन सप्लाई करती है उसने पत्र के जरीए कई बार प्रशासन को आगाह किया था कि अगर बकाया 69 लाख चुकता नही किया जाएगा तो किसी भी वक्त सप्लाई ठप हो सकती है। लेकिन कॉलेज प्रशासन ने इसे नजरअंदाज किया। लेकिन कॉलेज प्रशासन का कहना है इसकी सूचना उनको नही थी। लेकिन 1 पत्र सामने आने के बाद कॉलेज प्रशासन का झूठ पकड़ा गया है।सरकार ने बीआरडी कॉलेज के प्रिंसिपल को बर्खास्त कर दिया है। आपको बता दें कि ऑक्सीजन सप्लाई ठप होने की वजह से बीआरडी कॉलेज में 60 बच्चों की मौत होगयी थी।
Powered by Blogger.