गोरखपुर हादसा: दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल ने सभी सरकारी अस्पतालों के डॉक्टरों की बुलाई आपातकाल बैठक

पिछले दिनों गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में जो हादसा हुआ उससे देश में सनसनी फैल गई है| दिल्ली सरकार भी हरकत में आ गई है। आपको बता दें कि 11 अगस्त को ऑक्सिजन की सप्लाई ठप होने की वजह से 60 से ज्यादा बच्चों की मौते हो गई थी।



दिल्ली के सभी अस्पतालों की होगी समीक्षा
दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने फैसला लिया है कि वो 16 अगस्त को सभी अस्पतालों की समीक्षा करेगी और सभी अधिकारियों के साथ बैठक कर स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने पर काम करेगी।
गोरखपुर में हुए हादसें से पूरे देश सकते में है।यूपी सरकार की बड़ी लापरवाही के कारण हुई हादसे से लोगों में काफी रोष है।
गोरखपुर के हादसे को संज्ञान में लेते हुए दिल्ली सरकार ने ऐसे किसी भी इमरजेंसी से निपटने के लिए यह बैठक बुलाई है।

दिल्ली में बेहतर है स्वास्थ्य सेवाएं
आपको बता दें कि दिल्ली सरकार ने पिछले 2 सालों में स्वास्थ्य के क्षेत्र में काफी काम किया है। दिल्ली सरकार ने स्वास्थ्य सेवा देने के लिए 3 लेवल में तैयारी की है।

मोहल्ला क्लीनिक
दिल्ली में अब  तक 200 से अधिक मोहल्ला क्लिनिक खुल चुके है और सरकार की मानें तो साल के अंत तक 1 हज़ार और खुल जाएंगे। केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार के टकराव के कारण इसमें अड़चन आ रही ।मोहल्ला क्लिनिक में 90 तरह के छोटे टेस्ट आसानी से करवाएं जा सकते है। यहाँ इलाज़ मुफ्त है और दवाइयां भी मुफ्त में मिलती है। पिछले साल के रिपोर्ट के मुताबिक 3 महीने में 8 लाख लोगों ने मोहल्ला क्लिनिक में अपना इलाज करवाया था।

विदेशों में भी तारीफ़
मोहल्ला क्लीनिक की तारीफ़ देश ही नही विदेशों में भी खूब चर्चा का विषय बना है। पूर्व UN अध्यक्ष कॉफी अनान ने भी इसकी जम कर तारीफ की थी और बाकी देशों को इससे सीखने को कहा था।


पोलीक्लिनिक
दिल्ली सरकार ने पिछले 2 सालों में 250 से अधिक पोलीक्लीनक खोल चुकी है। यहां सर्ज़री, ऑपरेशन, टेस्ट आदि करवाए जा सकते है।

बड़े सरकारी अस्पताल की भी सुविधा को सुधारी जा रही है। बेडों की संख्या 10 हजार तक बढ़ाने का लक्ष्य दिल्ली सरकार ने रखा है।

अब निज़ी अस्पताल में इलाज के खर्च भी सरकार उठाएगी
केजरीवाल सरकार ने नए स्कीम के तहत अब किसी भी सरकारी अस्पताल में मरीज को अगर 30 दिन से ज़्यादा का समय लिखा जाता है तो वो दिल्ली सरकार द्वारा चुने अस्पताल में अपना इलाज़ मुफ्त में करा सकते हैं और उनका सारा खर्च दिल्ली सरकार उठाएगी।

सभी राज्यों को दिल्ली सरकार की स्वास्थ्य नीति से सीख लेनी चाहिए
दिल्ली सरकार स्वास्थ्य सेवाओं को सुधारने के लिए जो नीति अपना रही है उसे और भी राज़्यों को सीख लेनी चाहिए ताकि गोरखपुर जैसी घटनाओं से बचा जा सकें।

जरुर पढ़ें- दिल्ली शिक्षा क्रांति: कई बच्चों ने प्राइवेट स्कूल छोड़कर सरकारी स्कूल में लिया दाखिला

Share Your Views Below In Comment Box


Powered by Blogger.