GST की वजह से गंभीर बीमारियों का इलाज़ कराना अब और भी महंगा

GST के वजह से  पेसमेकर लगाने, डायलिसिस, आर्थोपेडिक्स में सहायक उपकरणों और कैंसर उपचार के लिए अब पहले से ज्यादा ख़र्च करना पड़ सकता है।

Photo Credit: FreeMalaysiaToday



सूत्रों के हवाले से खबर मिली है की केंद्रीय हेल्ड मिनिस्ट्री ने कहा है कि GST लागू हो जाने के वजह से लोगों को अब डायलिसिस, पेसमेकर लगाने, आर्थोपेडिक्स में सहायक उपकरणों और कैंसर के उपचार के लिए अब पहले से ज्यादा खर्च करना पड़ सकता है।

हेल्ड मिनिस्ट्री के जीएसटी प्रकोष्ठ ने माल एवं सेवा कर तथा हेल्ड क्षेत्र पर पड़ने वाले इसके प्रभाव को लेकर अक्सर पूछे जाने वाले एक सवाल के जवाब में अपनी साइट पर यह जानकारी सांझा की है.

एक और पूछे गए प्रश्न के जवाब में मंत्रालय ने कहा कि हालांकि GST के तहत जीवनरक्षक दवाइयां, स्वास्थ्य सेवाएं और स्वास्थ्य उपकरण कर मुक्त बने रहेंगे ।

मिनिस्ट्री के मुताबिक़ GST के चलते जिन स्वास्थ्य सेवाओं की कीमतें बढ़ने की ज्यादा संभावना है, उनमें डायलिसिस 5-12 %, पेसमेकर 5.5 से लेकर 12-18% , ऑर्थोपेडिक्स में सहायक उपकरण 5 -12 % और ब्लड कैंसर को छोड़कर कैंसर के लिए सभी सहायक उपकरण 5 से लेकर 7-12 % जैसी सेवाएं शामिल हैं। जिनके कर में GST के वजह से भाड़ी इजाफा होगा।


सरकारी अधिकारियों के मुताबिक हेपेटाइटिस की पहचान के लिए इस्तेमाल होने वाले जरूरी उपकरण तथा रेडियोलॉजी मशीनों को छोड़कर, डायग्नोस्टिक किट सर्वोच्च 28% कर के दायरे में आ जाएंगे और इसके कारण इनका उपचार पहले से और अधिक खर्चीला हो जाएगा।

जहां तक स्वास्थ्य पर्यटन का सवाल है, GST के लागू हो जाने से बीमा, फार्मास्युटिकल और अंतरराष्ट्रीय पर्यटन की लागत में गिरावट आने की संभावना है, जिसकी वजह से देश में स्वास्थ्य पर्यटन के लिए बेहतर संभावनाएं होने की उम्मीद है।

जरुर पढ़ें- जानें क्या है GST? 

मिनिस्ट्री ने GST के लिये एक नोडल अधिकारी की नियुक्ति की है और यह सभी हितधारकों तक सूचना पहुंचाने एवं उनकी समस्या के हल के लिए काम कर रहे हैं ।


लेकिन प्रश्न यह उठ रहा है अगर इसी प्रकार सभी गंभीर बीमारियों के उपचार पर GST लगता रहेगा तो आम आदमी और गरीब परिवार क्या करेगा। गंभीर बीमारियों का खर्च पहले से ही काफ़ी ज्यादा था , GST लग जाने के बाद ये और महंगे हो जाएंगे। उम्मीद है कि सरकार इन मसलो पर विचार करेगी और गरीब से गरीब परिवार का इलाज़ आसानी से हो सके और दवाइयां कम रेट पर मिले इसपर काम करेगी।


Share Your Views Below In Comment Box


Powered by Blogger.